रीतिकाल के प्रमुख ग्रंथ

रीतिकाल के प्रमुख ग्रंथ

रीतिकाल के प्रमुख ग्रंथ, रीतिकाल के प्रमुख कवि, रीतिकाल की प्रमुख धाराओं के नाम, काव्यविवेक किसकी रचना है?, रीतिकाल का वर्गीकरण आदि

रीति-काल में रचे गये विभिन्न रीति ग्रंथों की सूची

काव्यविवेक चिंतामणि की रचना है।

रीतिकाल: रस, श्रृंगार एवं नायिका भेद ग्रंथ

•हिततरंगिणी(1541):- कृपाराम
•साहित्यलहरी:- सूरदास
•रसमंजरी(1550):- नंददास
•रसिकप्रिया(1591):- केशवदास
•नखशिख:- केशवदास
•नायिकाभेद:- रहीम
•नगरशोभा:- रहीम
•सुंदर श्रृंगार(1631):- सुंदर कविराय
•रसकोश(1619):- न्यामत खां जान
•शिखनख:- बलभद्र
•श्रृंगारसागर(1589):- मोहनलाल मिश्रा

•रसविलास(1633):- चिंतामणि

•रसरहस्य(1670):- कुलपति मिश्र
•भावविलास(1689):- देव
•अष्टयाम:- देव
•शब्दरसायन/काव्यरसायन:- देव
•सुखसागरतरंग:- देव
•जातिविलास:- देव
•प्रेमतरंग:- देव
•रसपीयूषनिधि(1737):- सोमनाथ
•श्रृंगारविलास:- सोमनाथ
•रससारांश:- भिखारीदास
•श्रृंगारनिर्णय:- भिखारीदास
•रसिकानंद:-ग्वाल
•रसतरंग:-ग्वाल
•बलवीर विनोद:- ग्वाल
•सुधानिधि(1634):- तोष

•रसप्रबोध(1742):- रसलीन
•अंगदर्णप(1737):- रसलीन
•नवरसतरंग(1817):- बेनी प्रवीण
•रसभूषण:- याकूब

•जुगलरसविलास:- उजियारे कवि

•रसचंद्रिका:- उजियारे कवि
•रसशिरोमणि(1773):- महाराज रामसिंह
•जुगलविलास(1779):- महाराज रामसिंह
•रसनिवास(1782):-महाराज रामसिंह
•रसिकविनोद(1846):-चंद्रशेखर वाजपेयी
•जगद्विनोद(1803):- पद्माकर
•रसरत्नाक:- सुखदेव मिश्र
•रसार्णव:- सुखदेव मिश्र
•रसराज(1643-53):-मतिराम
•श्रृंगाररसमाधुरी(1712):- कृष्णभट्टदेव
•वरवधुविनोद:- कालिदास त्रिवेदी
•काव्यकलाधर(1745):- रघुनाथ बंदीजन
•भावपंचाशिका(1686):- वृंद
•यमकसतसई(1706):- वृंद
•नायिकाभेद:- नृपशंभु

बरवै नायिकाभेद-रहीम
भाषा भूषण-महाराजा जसवंत सिंह
•श्रीराधासुधाशतक:- हठी जी
•नखशिख:-पजनेस

रीतिकाल : काव्यांग निरूपक ग्रंथ

•कविवल्लभ(1647):- न्यामत खां जान
•कविकुलकल्पतरू:- चिंतामणि
•रसिकरसाल(1719):- कुमारमण
•काव्यनिर्णय:- भिखारीदास
•रसिकगोविंदानंदघन(1801):- रसिक गोविंद
•व्यंग्यार्थकौमुदी(1825):- प्रतापसाहि
•काव्यविनोद(1829):-प्रतापसाहि
सभामंडन(1827):- अमीरदास
•श्रीकृष्णसाहित्यसिंधु(1833):- अमीरदास
•साहित्यानंद:- ग्वाल
•कविदर्पण:- ग्वाल

रीतिकाल: अलंकार ग्रंथ

रीतिकाल के बारे में

•कविप्रिया(1601):- केशवदास
•शेरसिंह प्रकाश(1840):- अमीरदास
•अलंकार दर्पण(1778):- महाराज रामसिंह
•पद्माभरण(1810):-पद्माकर
•ललितललाम(1661-64):- मतिराम
•अलंकार पंचाशिका(1690):- मतिराम
•अलंकार कलानिधि:- कृष्णभट्टदेव
•भाषाभूषण:- जसवंतसिंह
•अलंकार रत्नाकर:- दलपतिराय बंशीधर
•शिवराजभूषण(1673):- भूषण
•रामालंकार:- गोप
•अलंकार चंद्रोदय(1729):- रसिकसुमति
•रसिकमोहन(1739):- रघुनाथ बंदीजन
•कविकुलकंठाभरण:- दूलह
•तुलसीभूषण(1754):- रसरूप
•अलंकार प्रकाश(1648):- मुरलीधर भूषण
•वाणीभूषण:- रामसहाय
•वधुभूषण(संस्कृत):- नृपशंभु

रीतिकाल: छंद निरूपक ग्रंथ

•छंदमाला:- केशवदास
•छंद विचार पिंगल:- चिंतामणि
•छंदोर्णव पिंगल:- भिखारीदास
•वृत्त चंद्रोदय(1830):- अमीरदास
•प्रस्तार प्रकाश:- ग्वाल
•वृत्त विचार(1671):- सुखदेव मिश्र
•छंदोहृदयप्रकाश(1666):- मुरलीधर भूषण
•वृत्त तरंगिणी:- रामसहाय
•श्री नाग पिंगल(छंदविलास,1702):- माखन
•वृत्तविचार (1799):- दशरथ
•छंद सार :- मतिराम
•छंद सार :- नारायण दास
•पिंगल प्रकाश :- नंदकिशोर
•छंद पयोनिधि :- हरिदेव
•छंदानंद पिंगल :- अयोध्या प्रसाद वाजपेयी

काव्य गुण परिभाषा एवं भेद

रीतिकाल के प्रमुख ग्रंथ

कालक्रमानुसार हिन्दी में आत्मकथाएं

पाठ्य पुस्तकों का महत्त्व

राघवयादवीयम् ग्रन्थ

भाषायी दक्षता

हालावाद विशेष

‘रासो’ शब्द की व्युत्पत्ति – विभिन्न मत

कामायनी के विषय में कथन

हिन्दी साहित्य विभिन्न कालखंडों के नामकरण

हाइकु (Haiku) कविता

संख्यात्मक गूढार्थक शब्द

मुसलिम कवियों का कृष्णानुराग

Today: 5 Total Hits: 1081643

Leave a Comment

Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
error: Content is protected !!