स्थानापन्न शब्द (अ से औ तक)

शब्द समूह के लिए एक शब्द (स्थानापन्न शब्द)

वाक्यांश या शब्द-समूह के लिए एक शब्द जो एक शब्द काम में लेते हैं उसे स्थानापन्न शब्द कहते हैं।

A word for a word set (substitute word/One Word/Phrases)

(Vakyansh ya shabd samooh ke liye ek shabd – Sthanapann Shabd)

शब्द समूह के लिए एक शब्द - स्थानापन्न शब्द
शब्द समूह के लिए एक शब्द – स्थानापन्न शब्द

कम से कम शब्दों में अधिकाधिक अर्थ को प्रकट करने के लिए ‘वाक्यांश या शब्द-समूह के लिए एक शब्द’ का विस्तृत ज्ञान होना आवश्यक है। ऐसे शब्दों के प्रयोग से वाक्य-रचना में संक्षिप्तता, सुंदरता तथा गंभीरता तो आती ही है, इसके अलावा पढ़ते, सुनते या लिखने में समय की भी बचत होती है।

वाक्यांश या शब्द-समूह के लिए एक शब्द – स्थानापन्न


मन में होने वाला ज्ञान – अंतर्ज्ञान

अवसर के अनुसार बदलने वाला – अवसरवादी

जिसका दमन न हो सके – अदम्य

जिसकी देह में केवल अस्थियाँ शेष हों – अस्थिशेष

जिसकी चर्चा प्रसंग के अनुकूल न हो – अप्रासंगिक

जो बात न कही गई हो – अनकही

जो बात कही न जा सके – अकथनीय

जिसका जन्म अण्डे से हुआ हो – अण्डज

ऊँचा पहाड़ी मैदान – अधित्यका

जो वस्तु दवा के साथ खायी जाती है – अनुपान

जिस पुस्तक में आठ अध्याय हों – अष्टाध्यायी

जिसे पहले न पढ़ा गया हो – अपठित

जिसका खण्डन न किया जा सके – अकाट्य (अखण्डनीय)

जिसकी माप-तोल न की जा सके – अमाप (अपरिमेय)

जिसे जाना न जा सके – अज्ञ

जो कभी मरता न हो – अमर

जो कभी बूढ़ा न हो – अजर

किसी बात को अत्यधिक बढ़ा-चढ़ाकर कहना – अतिशयोक्ति

जिसका कोई अन्त न हो – अनन्त

जिसे देखा न जा सके – अदृश्य

जिसके माता-पिता न हों – अनाथ

जिसके समान कोई दूसरा न हो – अद्वितीय (अनन्य)

जो एक ही में लीन हो – अनन्य

जिसमें धैर्य न हो – अधीर

जो कभी नष्ट न हो – अक्षय

जिसमें कोई विकार न हो – अविकारी

विचारों को व्यक्त करना – अभिव्यक्ति

जिसका वर्णन न हो सके – अवर्णनीय

जिसको थोड़ा ज्ञान हो – अल्पज्ञ

जो सुना हुआ न हो या जिसे सुना न जा सके – अश्रव्य

जिसे भेदा न जा सके – अभेद्य

दोनों हथेलियों को मिलाने से बनने वाला संपुट – अंजलि

जो साधा न जा सके – असाध्य

बीता हुआ समय – अतीत (भूत)

सबके हृदय की बात जानने वाला – अंतर्यामी

अनुभव होने की दशा – अनुभूत

जिसका अनुभव किया गया हो – अनुभूति

जो पहले कभी घटित न हुआ हो – अपूर्व

जो धन का व्यर्थ व्यय करता हो – अपव्ययी

जिसकी गहराई नापी न जा सके – अथाह

जहाँ पहुँचा न जा सके – अगम्य

जो इस संसार से संबंधित न हो – अलौकिक

जिसे अपने स्थान/स्थिति से अलग न किया जा सके – अच्युत

जो नष्ट न होने वाला हो – अनश्वर

जिसका चिन्तन न किया जा सके – अचिन्त्य

जिसका स्पर्श करना वर्जित हो – अस्पृश्य

जिस वस्तु को पाने की इच्छा की जाए – अभीष्ट

जिसका दमन न किया जा सके – अदम्य

महल का वह भाग जहाँ रानियां निवास करती हैं – अन्तःपुर

जिसका विश्वास न किया जा सके – अविश्वासी

पीछे-पीछे जाने वाला – अनुचर

पीछे-पीछे चलने वाला – अनुगामी

घोड़े की चर्बी से होने वाला यज्ञ – अश्वमेध

जो उदार न हो – अनुदार

जो प्रतिज्ञा, भय को दूर करती है – अभयदान

जो परीक्षा मंे उत्तीर्ण न हो – अनुत्तीर्ण

जो घोड़े पर सवार हो – अश्वरोही

जिसकी उपमा न हो सके – अनुपम

जो संभव न हो – असंभव

जो पढ़ा-लिखा न हो – अशिक्षित (निरक्षर)

जो स्त्री सूर्य को न देख सके – असूर्यपश्या

जो रचना किसी अन्य भाषा का अनुवाद हो – अनुदित

जो कार्य अवश्य होने वाला हो – अवश्यंभावी

सभी जातियों से संबंध रखने वाला – अंर्तजातीय

जो आगे की बात सोचता हो – अग्रशोची

जो किसी से जीता न जा सके – अजेय

जिसकी चिंता नहीं हो सकती – अचिंतनीय

जिसका आदि न हो – अनादि

जिसका कोई दूसरा उपाय न हो – अनन्योपाय

जिसका कोई शत्रु पैदा न हो – अजातशत्रु

जिसका जन्म न हो – अजन्मा

जिसके आने की तिथि मालूम न हो – अतिथि

जो दूसरों पर अत्याचार करे – अत्याचारी

जिसकी समय से पहले मृत्यु हो जाए – अकालमृत्यु

जिसकी गणना सबसे आगे हो – अग्रगण्य

जो ईश्वर की ही सत्ता मानता हो – अद्वैतवादी

जिसके पास कुछ न हो अर्थात् दरिद्र – अकिंचन

जो क्षमा न किया जा सके – अक्षम्य

जो रोका न जा सके – अनिरुद्ध

जिसे लांघा न जा सके – अलंघनीय

जिसे पढा न जा सके – अपाठ्य

जिसकी तुलना न हो सके – अतुलनीय

जो पीने योग्य न हो – अपेय

जो कम खाता हो – अल्पाहारी

इच्छित फल के लिए देवी-देवता की आराधना – अनुष्ठान

जो बिना वेतन के काम करे – अवैतनिक

जो किसी के शरीर की रक्षा करता हो – अंगरक्षक

किसी गुप्त वस्तु की नयी खोज – अनुसंधान

जिस जमीन में पैदा करने की शक्ति न हो – अनुर्वरा

जिसका कोई अर्थ न हो – अर्थहीन

जिसका अभिनय किया गया हो – अभिनीत

जिसका ज्ञान इन्द्रियों द्वारा न हो – अगोचर

वर्षा की अधिकता – अतिवृष्टि

वर्षा कम होना – अल्पवृष्टि

वर्षा बिल्कुल न होना – अनावृष्टि

जिसके पार न देखा जा सके – अपारदर्शी

बिना प्रयास के ही – अनायास

विनयपूर्वक किया गया हठ – अनुरोध

दोपहर के बाद का समय – अपराह्न

जिस पर मुकद्दमा चल रहा हो – अभियुक्त

जो आज तक से सम्बन्ध रखता है- अद्यतन

आदेश जो निश्चित अवधि तक लागू हो- अध्यादेश

वह सूचना जो सरकार की ओर से जारी हो-अधिसूचना

विधायिका द्वारा स्वीकृत नियम- अधिनियम

अविवाहित महिला- अनूढ़ा

वह स्त्री जिसके पति ने दूसरी शादी कर ली हो- अध्यूढ़ा

दूसरे की विवाहित स्त्री- अन्योढ़ा

फेंक कर चलाया जाने वाला हथियार- अस्त्र

जिसके हस्ताक्षर नीचे अंकित हैं- अधोहस्ताक्षरकर्ता

जिसका आदर न किया गया हो- अनादृत

जो भोजन रोगी के लिए निषिद्ध है- अपथ्य

जिस वस्त्र को पहना न गया हो- अप्रहत

जो कम बोलता हो- अल्पभाषी/मितभाषी

जो व्यक्ति विदेश में रहता हो- अप्रवासी

सीमा का अनुचित उल्लंघन- अतिक्रमण

जो छूने योग्य न हो- अछूत

जो छुआ न गया हो- अछूता

एक भाषा के विचारों को दूसरी भाषा में व्यक्त करना- अनुवाद

किसी सम्प्रदाय का समर्थन करने वाला- अनुयायी

किसी प्रस्ताव का समर्थन करने की क्रिया- अनुमोदन

पहले लिखे गए पत्र का स्मरण- अनुस्मारक

जो ढका हुआ न हो- अनावृत

जो दोहराया न गया हो- अनावर्त

वह भाई जो अन्य माता से उत्पन्न हुआ हो- अन्योदर

पलक को बिना झपकाए- अनिमेष/निर्निमेष

जो किसी पर अभियोग लगाए- अभियोगी

आदेश की अवहेलना- अवज्ञा

जो सहनशील न हो- असहिष्णु

जिसके पास कुछ न हो अर्थात् दरिद्र- अकिंचन

जो बाह्य संसार के ज्ञान से अनभिज्ञ हो- अलोकज्ञ

जिसको त्यागा न जा सके- अत्याज्य

वास्तविक मूल्य से अधिक लिया जाने वाला मूल्य- अधिमूल्य

जो बिना अन्तर के घटित हो- अनन्तर

जिसका कोई घर (निकेत) न हो- अनिकेत

कनिष्ठा (सबसे छोटी) और मध्यमा के बीच की उँगली- अनामिका

मूलकथा में आने वाला प्रसंग, लघु कथा- अंतःकथा

जिसका निवारण न किया जा सके/जिसे करना आवश्यक हो- अनिवार्य

जिसका किसी में लगाव या प्रेम हो- अनुरक्त

जो अनुग्रह (कृपा) से युक्त हो- अनुगृहीत

जिस पर आक्रमण न किया गया हो- अनाक्रांत

जिसका उत्तर न दिया गया हो- अनुत्तरित

जो कभी न आया हो (भविष्य)- अनागत

जो श्रेष्ठ गुणों से युक्त न हो- अनार्य

जिसकी अपेक्षा हो- अपेक्षित

नीचे की ओर लाना या खींचना- अपकर्ष

जो सामने न हो- अप्रत्यक्ष/परोक्ष

जिसकी आशा न की गई हो- अप्रत्याशित

जो प्रमाण से सिद्ध न हो सके- अप्रमेय

किसी काम के बार-बार करने के अनुभव वाला- अभ्यस्त

किसी वस्तु को प्राप्त करने की तीव्र इच्छा- अभीप्सा

जो साहित्य कला आदि में रस न ले- अरसिक

जिसको प्राप्त न किया जा सके- अप्राप्य

जो वध करने योग्य न हो- अवध्य

जो विधि या कानून के विरुद्ध हो- अवैध

जो भला-बुरा न समझता हो अथवा सोच-समझकर काम न करता हो- अविवेकी

जिसका विभाजन न किया जा सके- अविभाज्य/अभाज्य

जिसका विभाजन न किया गया हो- अविभक्त

जिस पर विचार न किया गया हो- अविचारित

जिसको व्यवहार में न लाया गया हो- अव्यवहृत

न हो सकने वाला कार्य आदि- अशक्य

जो शोक करने योग्य नहीं हो- अशोक्य

बूढ़ा-सा दिखने वाला व्यक्ति- अधेड़

जिसका कोई मूल्य न हो- अमूल्य

जैसा पहले कभी नहीं हुआ हो – अभूतपूर्व

जिस गाय या भैंस को बच्चा जने कम समय हुआ हो – अलवाई

गोद मंे सोने वाला – अंकशायी

गुरु के समीप रहने वाला विद्यार्थी – अंतेवासी

अपने आप (मन में) उत्पन्न होने वाली प्रेरणा – अंतःप्रेरणा

जिसका जन्म अंतिम वर्ण मंे हुआ हो – अंत्यज

किसी पद्य के अंतिम अक्षर से नया पद्य प्रारंभ करने की प्रतियोगिता – अंत्याक्षरी

जिसमें किसी प्रकार की विघ्न बाधा न हो – अकंटक

किसी के स्वागत के लिए चलकर कुछ आगे बढना – अगवानी

जिसका वर्णन वाणी द्वारा न हो सके – अनिर्वचनीय

जिसे बुलाया न गया हो – अनाहूत

जिसका मन दूसरी ओर हो – अन्यमनस्क

जो कुछ न करता हो – अकर्मण्य

एक-एक अक्षर ज्यों का त्यों – अक्षरशः

किसी चीज की खोज करने वाला – अन्वेषक

लोक प्रचलित या सामान्य नियम के विरुद्ध बात – अपवाद

जिसे टाला न जा सके – अटल

जिसकी संख्या कम हो – अल्पसंख्यक

शृंगार रस की बहुत अधिक स्पष्ट बात – अश्लील

जो कार्य मानवता के नियमों के अनुकूल न हों – अमानुषिक

आगे चलने वाली सेना – अरावल

हाथी को हाँकने का छोटा भाला – अंकुश

पृथ्वी और गृहों का स्थान – अंतरिक्ष

जिसके फलस्वरूप अपमान होता हो – अपमानजनक

जो सोच करने योग्य न हो – अशोच्य

जिसमें शब्द न हो रहा हो – अन्गूँज

जिसके तल का अंत न हो – अत्लान्त

अनुपम आभा वाला – अमिताभ

काल के मध्य का समय – अन्तराल

पश्चिम दिशा का पर्वत – अस्ताचल


आदि (प्रारंभ) से उपान्त (किनारे) तक – आद्योपान्त

आलोचना करने योग्य – आलोच्य

पुस्तक की जिल्द पर कागज – आवरण

शीघ्र कविता लिखने वाला – आशुकवि

शीघ्र प्रसन्न होने वाला – आशुतोष

ऊपर चढने वाला – आरोही

जो कण्ठ तक डूबा हुआ हो – आकण्ठमग्न

वह बात जो अपने ऊपर बीती हो – आपबीती

वह जो अचानक हो गया हो – आकस्मिक

जो आर्यों से भिन्न हो – आर्येत्तर

बाहर से आने वाला – आगन्तुक

आधार पर रखा जाने वाला – आधेय

जो आदर के योग्य हो – आदरणीय (आदरास्पदा)

जो समय अभी-अभी गुजरा हो – आसन्नभूत

जो आदमी के आकार का हो – आदमकद

सिर से पैर तक – आपादमस्तक

चढ़ने वाला या चढ़ा हुआ – आरूढ़

जो चोट खाया हुआ हो – आहत

जो ईश्वर मंे विश्वास रखता हो – आस्तिक

स्वयं की हत्या करने वाला – आत्मघाती

जो कभी निराश न हो – आशावादी

जो नया आविष्कार करे – आविष्कारक

स्वयं को धोखा देना – आत्मप्रवंचना

यज्ञ में देवता आदि को बुलाना – आह्वान

अपने पर भरोसा करना – आत्मावलम्बन

अपनी बात पर डटने वाला – आग्रही

वह नायिका जिसका पति प्रदेश से लौटा हो – आगतपतिका

अपने ऊपर निर्भर रहने वाला – आत्मनिर्भर

ऐसी जीविका जो आकस्मिक हो – आकाशवृत्ति

पूरे जीवन तक – आजीवन

जिसकी भुजाएँ घुटनों तक लम्बी हों- आजानुबाहु

मृत्युपर्यन्त- आमरण

व्यर्थ का प्रदर्शन- आडम्बर

अपनी हत्या स्वयं करना- आत्महत्या

अपनी प्रशंसा स्वयं करने वाला- आत्मश्लाघी

विदेश से देश में माल मंगाना- आयात

जो अतिथि का सत्कार करता है- आतिथेय/मेजबान

दूसरे के हित में अपना जीवन त्याग देना- आत्मोत्सर्ग

जो बहुत क्रूर व्यवहार करता हो- आततायी

जिसका सम्बन्ध आत्मा से हो- आध्यात्मिक

जिस पर हमला किया गया हो- आक्रांत

जिसने हमला किया हो- आक्रांता

जिसे सूँघा न जा सके- आघ्रेय

जिसकी कोई आशा न की गई हो- आशातीत

पवित्र आचरण वाला- आचारपूत

लेखक द्वारा स्वयं की लिखी गई जीवनी- आत्मकथा

जो गुण-दोष का विवेचन करता हो- आलोचक

जो जन्म लेते ही गिर या मर गया हो- आजन्मपात


जिसने इन्द्र को जीत लिया हो- इन्द्रजीत

जो इन्द्रियों से परे हो/जो इन्द्रियों द्वारा ज्ञात न हो सके- इन्द्रियातीत

जो इतिहास का ज्ञाता हो – इतिहासज्ञ

जो इतिहास लिखता हो- इतिहासकार

वह चीज जिसकी चाह हो- इच्छित

किन्हीं घटनाओं का कालक्रम से किया गया वर्णन- इतिवृत्त

इस लोक से संबंधित- इहलौकिक

माँ-बाप का अकेला लड़का- इकलौता


दूसरे की उन्नति से जलना- ईर्ष्या

ईर्ष्या करने वाला- ईर्ष्यालु

उत्तर और पूर्व के बीच की दिशा- ईशान/ईशान्य


जिसका उद्धरण दिया गया हो- उद्धृत

जमीन फोड़कर पैदा होने वाला- उद्भिज

जिसने अपना ऋण पूरा चुका दिया हो- उऋण

जिसका मन जगत से उचट गया हो- उदासीन

जिसकी दोनों में निष्ठा हो- उभयनिष्ठ

ऊपर की ओर जाने वाला- उर्ध्वगामी

नदी के निकलने का स्थान- उद्गम

किसी वस्तु के निर्माण में सहायक साधन- उपकरण

जो उपासना के योग्य हो- उपास्य

मरने के बाद सम्पत्ति का मालिक- उत्तराधिकारी/वारिस

सूर्योदय की लालिमा- उषा

जिसका ऊपर कथन किया गया हो- उपर्युक्त

कुँए के पास का वह जल कुंड जिसमें पशु पानी पीते हैं- उबारा

छोटी-बड़ी वस्तुओं को उठा ले जाने वाला- उठाईगिरा

पर्वत की निचली समतल भूमि- उपत्यका

दूसरे के खाने से बची वस्तु- उच्छिष्ट

किसी भी नियम का पालन नहीं करने वाला- उच्छृंखल

वह पर्वत जहाँ से सूर्य और चन्द्रमा उदित होते माने जाते हैं- उदयाचल

जिसके ऊपर किसी का उपकार हो- उपकृत

ऐसी जमीन जो अच्छी उत्पादक हो- उर्वरा

जो छाती के बल चलता हो (साँप आदि)- उरग


जिस भूमि में कुछ भी पैदा न होता हो- ऊसर

सूर्यास्त के समय दिखने वाली लालिमा- ऊषा

विचारों का ऐसा प्रवाह जिससे कोई निष्कर्ष न निकले- ऊहापोह


जो दिन में एक बार भोजन करता है- एकाहारी

जब किसी एक ही अंग पर बल दिया गया हो- एकांगी

जहाँ कोई दूसरा न हो- एकान्त

सांसारिक वस्तुओं को प्राप्त करने की इच्छा- एषणा

वह स्थिति जो अंतिक निर्णायक हो, निश्चित- एकांतिक

एक ही बार घटित होने वाला- एककालिक या एककालीन

एक ही पेड़ के तने से बनाई गई नाव- एकगाछी

एक ही पुरुष से संबंध रखने वाली स्त्री- एकचारिणी

जहाँ शासन एवं शक्ति एक ही व्यक्ति के अधिकार में हो- एकतंत्र

वह सिद्धांत जो सभी को एकमय और एकबद्ध रहने का प्रतिपादन करे- एकतावाद

समान गुण-धर्म वाला- एकधर्मी

एक बार भोजन करने वाला- एकभुक्त

एकांत में भजन करने वाला योगी- एकांती

एक ही विषय में ध्यान लगाने वाला- एकाग्र

एक अक्षर वाला- एकाक्षर या एकाक्षरीय

एक मत जिसमें अनुसार आत्मा और परमात्मा एक हैं तथा सभी आत्माएं उसी का अंश हैं- एकात्मवाद

मृत्यु के बाद ग्यारहवें दिन होने वाला कर्मकाण्ड- एकादशाह

चन्द्रमास की की ग्यारहवीं तिथि- एकादशी

एक से अधिक- एकाधिक

देश पर एक छत्र राज करने वाला अकेला स्वामी- एकाधिप या एकाधिपति

एक लड़ी की माला- एकावली

एक चीज खाकर रहने वाला- एकाहारी

दो या दो से अधिक वस्तुओं को मिलाकर एक बनाना- एकीकरण

मिलाकर एक रूप किया हुआ- एकीकृत

जो मिलकर एक हुआ हो- एकीभूत

जगत का निर्माता और संहारक एक ही है, का सिद्धांत- एकेश्वरवाद

इस कारण या इसलिए- एतदर्थ


अपनी इच्छा से किया जाने वाला कार्य- ऐच्छिक

इस संसार से सम्बद्ध- ऐहिक

इंद्रियों को भ्रमित करने वाला- ऐन्द्रजालिक

ईंधन से उत्पन्न- ऐंधन

शब्दों का एक ही पद में संगठित हो जाना- ऐकपद्य

विचारों या भावों की एकता- ऐकभाव्य या ऐकमत्य

एक दिन में होने वाला- ऐकाहिक

ईख (गन्ना) के रस से बना हुआ- ऐक्षव

इतिहास से संबंध रखने वाला- ऐतिहासिक

पिसे हुए चावल एवं हल्दी के मिश्रण से बना हुआ लेप- ऐपन (उबटन)

विषय वासना में लिप्त रहने वाला- ऐयाश

इन्द्र का हाथी या बिजली से चमकता हुआ बादल- ऐरावत


भारतीय आर्यों का मंत्रोच्चारण से आरंभ एवं अंत में प्रयुक्त होने वाला शब्द- ओम् या ओंकार

जो खूब भरा हुआ हो- ओतप्रोत

लकड़ी या पत्थर का बना पात्र जिसमें अन्न कूटा जाता है- ओखली

साँप-बिच्छू के जहर या भूत-प्रेत के भय को मंत्रों से झाड़ने वाला- ओझा

पालकी आदि पर डाला जाने वाला कपड़ा- ओहार

वाष्प का जल की बूंदों मंे बदल जाना- ओस

बरसात में गिरने वाला बर्फ का छोट टुकड़ा- ओला

कपास से बिनौले अलग करने वाली चरखी- ओटनी

साहित्य की वह शैली जिससे जोश एवं साहस का आभास हो- ओज


दो शब्दों या वाक्यों को जोड़ने वाला शब्द- और

जो केवल कहने एवं दिखाने के लिए हो- औपचारिक

विवाहिता पत्नी से उत्पन्न- औरस

जो उपनिषदों से संबंधित हो- औपनिषदिक

एक ही तरह का राग- औडव

उद्योगों से संबंधित- औद्योगिक

उद्योग हेतु नये कारखाने लगाना- औद्योगिकीकरण

उपदेश एवं शिक्षा देकर जीविका चलाने वाला- औपदेशिक

उपनिवेश से संबंधित- औपनिवेशिक

बीच की संख्या या माध्य- औसत

निम्नलिखित अक्षरों से बनने वाले स्थानापन्न शब्दों को जानने के लिए इन्हें स्पर्श कीजिए-

अ से औ तक

क, क्ष, ख, ग, घ

च, छ, ज, ज्ञ, झ

ट, ठ, ड, ढ

त, त्र, थ, द, ध, न

प, फ, ब, भ, म

य, र, ल, व

श, श्र, ष, स, ह

अतः हमें आशा है कि आपको यह जानकारी बहुत अच्छी लगी होगी। इस प्रकार जी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप https://thehindipage.com पर Visit करते रहें।

Today: 1 Total Hits: 1080891
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
error: Content is protected !!