विभिन्न प्रकार की इच्छाएँ

विभिन्न प्रकार की इच्छाएँ

हिंदी व्याकरण में यदि हम स्थानापन्न शब्दों (शब्द समूह के लिए एक शब्द) की बात करें तो इसमें विभिन्न प्रकार की इच्छाएं (Desires) भी होती हैं। विभिन्न प्रकार की इच्छाएं जैसे- जिज्ञासा, जिघांसा, जिघत्सा, जिघृक्षा, मुमुक्षु, मुमूर्षू, मुमूर्षा आदि। इन शब्दों के अर्थ में कम अथवा बहुत अधिक अंतर होता है। इसके लिए पहले हम ‘वाक्यांश के लिए एक शब्द’ के बारे में जान लेते हैं-

वाक्यांश के लिए एक शब्द

कम से कम शब्दों में अधिकाधिक अर्थ को प्रकट करने के लिए ‘वाक्यांश या शब्द-समूह के लिए एक शब्द’ का विस्तृत ज्ञान होना आवश्यक है। ऐसे शब्दों के प्रयोग से वाक्य-रचना में संक्षिप्तता, सुंदरता तथा गंभीरता आ जाती है।

हिंदी के सभी शब्द समूह के लिए एक शब्द (स्थानापन्न शब्द) जानने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

विभिन्न प्रकार की इच्छाएँ
विभिन्न प्रकार की इच्छाएँ

विभिन्न प्रकार की इच्छाएँ

अभीप्सा- किसी वस्तु को प्राप्त करने की तीव्र इच्छा

एषणा- सांसारिक वस्तुओं को प्राप्त करने की इच्छा

चिकीर्षा- कार्य करने की इच्छा

जिज्ञासा- जानने की इच्छा

हिंदी के सभी पर्यायवाची शब्द जानने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

जिगीषा- जीतने, दमन करने की इच्छा

जिगीषु- किसी को जीत लेने की इच्छा रखने वाला

जिघांसा- किसी को मारने की इच्छा

जिघत्सा- भोजन करने की इच्छा

जिघृक्षा- ग्रहण करने, पकड़ने की इच्छा

जिजीविषा- जिंदा रहने की इच्छा

ज्ञानपिपासा- ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा

तितीर्षा- तैर कर पार जाने की इच्छा

धनेच्छु- धन की इच्छा रखने वाला

पिपासु- पीने की इच्छा रखने वाला

फलेच्छु- फल की इच्छा रखने वाला

बुभुक्षा- खाने की इच्छा

बुभुक्षु- खाने का इच्छुक

बुभुक्षित- जो अत्यधिक भूखा हो

मुमुक्षु- मोक्ष की इच्छा रखने वाला

मुमुर्षा- मरने की इच्छा

मुमूर्षू- मरणासन्न अवस्था वाला/मरने को इच्छुक

युयुत्सु- युद्ध की इच्छा रखने वाला

युयुत्सा- युद्ध करने की इच्छा

शुभेच्छु- शुभ चाहने वाला

हितैषी- हित चाहने वाला

इच्छा के पर्यायवाची शब्द

अरमान, अभिरुचि, अभिलाषा, आकांक्षा, आरजू, इष्टि, ईप्सा, ईहा, उत्कंठा, एषणा, कामना, चाह, मनोकामना, मनोरथ, रुचि, लालसा, लिप्सा, वांछा, स्पृहा।

इच्छा की परिभाषा जानने के लिए विकिपीडिया के इस लिंक पर क्लिक कीजिए- इच्छा की परिभाषा।

आदिकाल के साहित्यकार

भक्तिकाल के प्रमुख साहित्यकार

आधुनिक काल के साहित्यकार

Today: 1 Total Hits: 1083230

Leave a Comment

Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
error: Content is protected !!