शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन हिन्दी शिक्षण-विधियाँ

शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन (Branching Programmed Instruction)

हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन, आलोचना, मूल सिद्धांत, व्यावहारिक नियम, अवधारणाएं, स्वरूप, प्रकार, निर्माण विधि, विशेषताएं एवं सीमाएं आदि की पूरी जानकारी

प्रस्तावना (Introduction)

रेखीय अभिक्रमित अनुदेशन पूरी तरह से अभिक्रमित अनुदेशन नहीं होता है अपितु उसका एक प्रमुख रूप है। इसका दूसरा महत्त्वपूर्ण प्रकार ‘शाखीय अभिक्रमित अनुदेशन’ है। इसे सन 1954 में नार्मन ए.क्राउडर ने प्रस्तुत किया था।

शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन हिन्दी शिक्षण-विधियाँ
शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन हिन्दी शिक्षण-विधियाँ

नार्मन ए.क्राउडर ने स्किनर के अभिक्रमित अनुदेशन की कटु आलोचना की है और इस संबंध में निम्नलिखित आपत्तियाँ उठाई हैं:

(1) मानव और अन्य प्राणियों के अधिगम में भिन्नता-

नार्मन ए. क्राउडर का पहला तर्फ यह है कि बी.एफ.स्किनर ने चूहों तथा कबूतरों पर प्रयोग द्वारा जिन अधिगम सिद्धांतों का प्रतिपादन किया। उनका ही मानव के अधिगम की व्याख्या के लिए भी उपयोग किया। यह न्याय-संगत प्रतीत नहीं होता है क्योंकि मानव अधिगम चूहों तथा कबूतरों के अधिगम से पूर्वतः भिन्न होता है।

(2) प्रतिभाशाली शिक्षार्थियों में अरुचि उत्पन्न होना-

क्राउडर का दूसरा तर्क यह है कि रेखीय अधिगम अनुदेशन प्रतिभाशाली शिक्षार्थियों के लिए एक अवमान होता है क्योंकि उन्हें छोटे-छोटे पदों में एक ही ढंग में अध्ययन करना होता है तथा सभी प्रकार के शिक्षार्थियों को भी एक ही ढंग से अध्ययन करना होता है। अभ्यास के पद प्रतिभाशाली शिक्षार्थियों में अरुचि उत्पन्न करते हैं।

(3) सुधार के लिए विकल्प की अनुपलब्धता-

रेखीय अभिक्रमित अधिगम में यदि शिक्षार्थी गलत अनुक्रिया करता है तब उसके सुधार के लिए कोई भी प्रयास नहीं किया जाता है।

(4) निर्माण कार्य कठिन होना-

एक प्रभावशाली शाखीय अनुदेशन की अपेक्षा एक प्रभावशाली रेखीय अभिक्रमित अनुदेशन का निर्माण करना कठिन होता है।

(5) अनुक्रिया चयन-

रेखीय अनुदेशन के अध्ययन में शिक्षार्थी को अनुक्रिया करनी होती है। जबकि शाखीय अनुदेशन में बहुनिर्वचन में से सही अनुक्रिया का चयन करना सरल होता है।

(6) शिक्षार्थियों की सही अनुक्रिया ही महत्वपूर्ण-

रेखीय अनुदान व सफल अनुक्रिया के सम्बन्ध में कोई चर्चा नहीं की जाती है जबकि अपेक्षित व्यवहार परिवर्तन के लिए शिक्षार्थियों की सही अनुक्रियाएं ही महत्वपूर्ण होती हैं। सुसन मारकल का कथन है कि शिक्षार्थी अध्ययन में कम त्रटियाँ करने से अधिक सीखते हैं जबकि सभी अधिगमों के लिए यह धारणा सही नहीं होती है।

(7) सामाजिक अभिप्रेरणा का कम महत्व-

रेखीय अभिक्रमित अनुदेशन में मनोवैज्ञानिक अभिप्रेरणा को ही अधिक महत्व दिया जाता है जबकि सामाजिक अभिप्रेरणा के महत्त्व पर कम बल दिया जाता है।

(8) उपचारात्मक शिक्षण का स्थान न होना-

रेखीय अनुदेशन में शिक्षार्थियों की कमजोरियों के लिए उपचारात्मक शिक्षण (Remedial Instruction) के लिए कोई स्थान नहीं होता है।

शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन के मूल सिद्धांत (Basic Theories Branching or Instruction Program)

(1) अनुक्रिया-अधिगम सिद्धांत

डेविड केम के अनुसार शाखीय अनुदेशन का पहला सिद्धांत यह है कि शिक्षार्थियों की गलत अनुक्रियाएँ अधिगम में बाधक नहीं होती, अपितु शिक्षार्थियों को अध्ययन के लिए निर्देशन प्रदान करती है। प्रत्येक अनुक्रिया शिक्षार्थियों में संप्रेषण की परीक्षा करती है। गलत अनुक्रिया से शिक्षार्थी संबंधी कमजोरियों का निदान होता है।

(2) निदान-उपचार सिद्धांत-

इसमें प्रश्नों का उद्देश्य निदान करना होता है परीक्षण करना नहीं। इस प्रविधि से निदान के लिए विशिष्ट उपचार तुरन्त प्रदान किया जाता है जिसमें प्रत्येक शिक्षार्थी की कमजोरियों में सुधार किया जाता है।

(3) सरलता का सिद्धांत-

शाखीय अभिक्रिया की मुख्य रुचि यह होती है कि शिक्षार्थी ने सीखा है अथवा नहीं। वे इस गहराई में रुचि नहीं लेते कि शिक्षार्थी कैसे सीखता है? इस प्रकार इस अनुदेशन में अधिगम की प्रक्रिया को अपेक्षा अधिगम उत्पादन को अधिक महत्त्व देते हैं।

(4) विभेदीकरण अधिगम सिद्धान्त : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

आन्तरिक अनुदेशन में शिक्षार्थियों को सही अनुक्रिया करने के लिए कोई अनुबोधक (Prompts) तथा संकेतक नहीं प्रयुक्त जाते प्रश्न अनुबोधक रहित होता है। प्रश्न कोक बहुवचन में प्रस्तुत किया जाता है। इसलिए सही अनुक्रिया के चयन में विभेदीकरण अधिगम को बढ़ावा मिलता है।

शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन के व्यावहारिक नियम (Fundamental Principles of Branching Program)

इन अवधारणाओं तथा मूल सिद्धान्तों के आधार पर तीन व्यावहारिक अधिनियम दिए जा सकते हैं-

(1) व्याख्यात्मक अधिनियम (Expository Principle) : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

इस व्यावहारिक अधिनियम के अनुसार सर्वप्रथम प्रत्यय अथवा इकाई के स्वरूप को व्याख्या की जाती है जिससे शिक्षार्थी समग्र रूप में पढ़ता है। जिस पृष्ठ पर व्याख्या दी जाती है उसे मुख्य पृष्ठ (Home Page) कहते हैं। व्याख्या के अन्त में बहुविकल्प वाले प्रश्न दिए जाते हैं।

(2) निदानात्मक अधिनियम (Principle of Diagnosis)

इस व्यावहारिक अधिनियम का तात्पर्य निदान करने से है। मुख्य पृष्ठ पर जो बहुविकल्प प्रश्न दिए जाते है उसका उद्देश्य निदान करना होता है। यदि शिक्षार्थी सही अनुक्रिया का चयन कर लेता है तो वह अगले प्रत्यय पर अग्रसर होता है। परन्तु गलत अनुक्रिया करने पर उसे त्रुटि पृष्ठ (Wrong Page) पर जाना होता है। क्योंकि वह प्रत्यय को सही रूप में ग्रहण नहीं कर सका है।

(3) उपचारात्मक अधिनियम (Principle of Remediation)

इस व्यावहारिक अधिनियम का कार्य उपचार प्रदान करना है। गलत अनुक्रिया से शिक्षार्थी की कमजोरियों का निदान होता है और वह गलत अनुक्रिया के सामने अंकित पृष्ठ पर सही रूप में ग्रहण कर सकें। उपचारात्मक अनुदेशन में प्रत्येक गलत अनुक्रिया के लिए अलग-अलग पृष्ठ कर दिए जाते हैं जिन्हें त्रुटि पृष्ठ (Wrong Page) कहते हैं।

हिन्दी शिक्षण-विधियाँ : शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन की अवधारणाएँ (Assumptions of Branching Programmed Instruction)

1 पहली

धारणा यह है कि किसी पाठ्यवस्तु को शिक्षार्थियों के समक्ष सम्पूर्ण रूप में प्रस्तुत करने से ये उसे सुगमता से ग्रहण कर लेते हैं इसलिए इसे व्याख्यात्मक अनुदेशन (Expository Program) भी कहते हैं। सम्पूर्ण प्रत्यय अथवा इकाई की व्याख्या एक साथ ही की जाती है।

2 दूसरी

धारणा यह है कि शिक्षार्थियों की गलत अनुक्रियाएँ अधिगम में बाधक नहीं होती अपितु निदान में सहायक होती हैं।

3 तीसरी

धारणा यह है कि यदि शिक्षार्थियों को अध्ययन के साध निदान के लिए उपचारात्मक अनुदेशन (Remedial Instruction) प्रदान किया जाए तो वे अधिक सीखते है।

4 चौथी

शिक्षार्थियों की व्यक्तिगत भिन्नताओं को ध्यान में रखते हुए उनकी आवश्यकताओं के अनुसार सीखने का अवसर देने से प्रक्रिया अधिक प्रभावशाली होती है। यह इस अनुदेशन की चौथी धारणा है।

5 पाचवी : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

धारणा यह है कि बहुविकल्प वाले प्रश्न में से सही अनुक्रिया का चयन करने से शिक्षार्थी प्रत्यय को सुगमता से ग्रहण कर लेते हैं।

हिन्दी शिक्षण-विधियाँ : शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन का स्वरूप (Structure of Branching Program)

इस व्यवस्था में पाठयवस्तु को छोटे-छोटे पदों में न रखकर समग्र पाठ या एक इकाई या प्रत्यय के रूप में प्रस्तुत किया जाता है। प्रत्येक पद का आकर बड़ा, एक या दो पराग्राफ से लंकर सम्पूर्ण पृष्ठ तक का होता है। अध्ययन के समय पृष्ठों का क्रमबद्ध रूप में अनुसरण नहीं किया जाता इसलिए इसे उत्कट पाठ्यपुस्तक (Scramble Test) कहते हैं। इस प्रकार की पाठ्यवस्तु में दो प्रकार के पृष्ठ होते हैं-

(1) मुख्य पृष्ठ / गृहपृष्ठ (Home Page)
(2) त्रुटि पृष्ठ (Wrong Page)

हिन्दी शिक्षण-विधियाँ : शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन के प्रकार (Types of Branching Program)

(1) बहुविकल्प प्रश्न पर आधारित (Base on Multiple Choice Question)

शाखीय अनुदेशन के इस रूप में सूचना के अन्त में बहुविकल्प प्रश्न दिया जाता है जिसमें प्रश्न के लिए कई सम्भावित विकल्प दिये जाते हैं। उनमें से एक सही होता है। शिक्षार्थियों को उनमें से एक ही उत्तर का चयन करना होता है। यदि वह सही विकल्प का चयन कर लेता है तब उसके सामने अंकित संख्या के प्रश्न से उसकी पुष्टि होती है। गलत अनुक्रिया करने पर उसके सामने अंकित संख्या के पृष्ठ पर उपचार के लिए अनुदेशन दिये जाते हैं।

(2) रचनात्मक अनुक्रिया प्रश्न पर आधारित (Based on Constructive Response Question)

सूचना के अन्त में प्रश्न दिए जाते है और उनके उत्तर के लिए कोई विकल्प नहीं दिए जाते। शिक्षार्थियों को उन प्रश्नों का उत्तर स्वयं देना होता है। शिक्षार्थी अपनी अनुक्रिया को शुद्धता की जाँच स्वयं करता है और गलत अनुक्रिया के लिए उसे उपचारात्मक अनुदेशन नहीं प्रदान किया जाता है। शिक्षार्थी प्रस्तुत सूचना को दोहरा सकता है।

(3) रचनात्मक निर्वचन प्रश्न पर आधारित (Base on Constructive Choice Question)

इस प्रकार के शाखीय अनुदेशन में शिक्षार्थियों को प्रश्न का उत्तर लिखना होता है। इसके बाद शिक्षार्थी पृष्ठ को पलट कर अपनी अनुक्रिया की पुष्टि करता है। जब शिक्षार्थी अगले पृष्ठ पर पहुंचता है तब वहाँ उसे उपचारात्मक अनुदेशन दिया जाता है क्योंकि इस पृष्ठ पर सही अनुक्रिया के लिए विकल्प दिये जाते है। प्रत्येक विकल्प के लिए उपचारात्मक अनुदेशन दिया जाता है। शिक्षार्थी को अनुक्रिया जिस विकल्प से मिलती जुलती है उसी के उपचारात्मक अनुदेशन का शिक्षार्थी अध्ययन करता है। गलत अनुक्रिया लिए उपचारात्मक अनुदेशन की सहायता प्रदान की जाती है।

(4) पुंज (Cluster) प्रश्न पर आधारित

इस प्रकार के शाखीय अनुदेशन का रूप ‘अपठित विषय’ वस्तु के समान होता है। प्रस्तुतिकरण में पर्याप्त सूचना शिक्षार्थी को प्रदान की जाती है और उससे सम्बन्धित कई प्रश्नों का उसे उत्तर देना होता है। आरंम्भ में इस प्रकार के पदों की रचना नहीं की जाती क्योंकि इसमें शिक्षार्थी से कई प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है। इसमें शिक्षार्थी की अनुक्रिया की पुष्टि भी नहीं की जाती और न गलत अनुक्रियाओं के लिए उपचारात्मक अनुदेशन ही प्रदान किया जाता है। पुंज प्रश्न पर आधारित शाखीय अनुदेशन का प्रयोग परीक्षण के लिए किया जाता है।

(5) रेखीय क्रम (Linear Sequence)

कभी-कभी विशेष रूप से जब शिक्षार्थियों को तथ्यों तथा प्रत्ययों का पुनःस्मरण (Recall) करना होता है तब शाखीय अनुदेशन में एक रेखीय क्रम की आवश्यकता होती है। शाखीय अनुदेशन में मुख्य पृष्ठ की सूचनाओं को सीखने के क्रम में ही व्यवस्थित किया जाता है। यदि शिक्षार्थी सही अनुक्रिया का चयन करता है तब वह रेखीय क्रम का अनुसरण करता है।

हिन्दी शिक्षण-विधियाँ : शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन की निर्माण विधि (Development of Branching Program)

(1) प्रकरण का चयन (Selection of Topic)

सर्वप्रथम मानदंडों को ध्यान में रखकर पाठ्यवस्तु में प्रकरण का चयन किया जाता है। प्रकरण के लिए उपचारात्मक अनुदेशन को आवश्यकता है अथवा नहीं इस बात को भी ध्यान में रखा जाता है। शाखीय अनुदेशन पदों का निर्माण प्रकरण के चयन के बाद किया जाता है।

(2) अवधारणा (Assumption)

इस सापान के अंतर्गत प्रकरण से संबंधित पूर्व व्यवहार में लिखा जाता है। इसके लिए ब्लूम के वर्गीकरण का अनुसरण किया जाता है। शाखीय उद्देश्यों के निर्माण विधि के अध्याय में जो रूपरेखा दी गई है उसका प्रयोग शाखीय अनुदेशन के उद्देश्यों को व्यावहारिक रूप में लिखने के लिए किया जाता है।

(3) पाठ्यवस्तु विश्लेषण (Content Analysis) : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

इस सोपान में शाखीय अनुदेशन के निर्माण हेतु निर्धारित पाठ्यवस्तु का इकाइयों में विश्लेषण किया जाता है इस प्रकार के अनुदेशन में तत्वों का अपेक्षा प्रत्यय तथा पाठ्यवस्तु की इकाइयों को अधिक महत्त्व दिया जाता है।
पाठ्यवस्तु का इकाइयों में विश्लेषण करने से मुख्य पृष्ठ की संख्या निश्चित होती है। क्योंकि पाठ्यवस्तु की प्रत्येक इकाई को एक मुख्य पृष्ठ पर लिखा जाता है। इसके अतिरिक्त यदि शाखीय अनुदेशन के बहु निर्वाचन प्रश्न में विकल्पों की संख्या निश्चित हो जाती है तब त्रुटिपृष्ठ की संख्या भी निर्धारित हो जाती है। इन सब बातों के आधार पर अभिक्रमक एक चार्ट तैयार कर लेता है जो उसके लिए निर्देशन का कार्य करता है।

(4) पदों की रचना (Writing of Frames) : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

पदों की रचना आरम्भ करने से पूर्व शाखीय अनुदेशन के अनुसार पृष्ठों की संख्या अकित कर ली जायेगी प्रथम पद मुख्य पृष्ठों पर लिखा जायेगा। पाठ्यवस्तु को इकाई के पूर्व व्याख्या प्रस्तुत की जायेगी। इसके बाद बहुविकल्प वाले रूप की रचना की जायेगी जिससे पाठ्यवस्तु की बोधगम्यता की जाँच की जा सके। गलत अनुक्रिया का उपचारात्मक अनुदेशन त्रुटिपृष्ठ पर प्रस्तुत किया जायेगा। इस प्रकार अभिक्रमक चार्ट की सहायता से अनुर्दशन का निर्माण सुगमता से कर सकेगा। मुख्य पृष्ठ की सही अनुक्रिया की पुष्टि की जायेगी और उसके बाद समाप्त लिख दिया जायेगा।

(5) जाँच करना (Check out) : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

अनुदेशन के पदों का निर्माण करण के बाद उनकी जाँच की जाती है। यह शिक्षार्थियों के लिए कहाँ तक उपयोगी है? इसकी पहले व्यक्तिगत जाँच की जाती है। एक-एक शिक्षक को पद पढ़ने को दिया जाता है और उसकी भाषा, शब्द तथा बोधगम्यता की कठिनाई का पता लगाकर उनमें सुधार किया जाता है। व्यक्तिगत जाँच के बाद पदों की समूह पर जाँच की जाती है। शिक्षार्थियों की अनुक्रियाओं की सहायता से अनुदेशन के पदों में सुधार तथा विकास किया जाता है और इसके बाद पदों का अन्तिम रूप तैयार किया जाता है। अन्तिम रूप की प्रतिलिपियों तैयार की जाती है जिसका प्रयोग मूल्यांकन के लिये किया जाता है।

(6) मूल्यांकन (Evolution)

पदों के अन्तिम रूप का मूल्यांकन प्रतिदर्शन के आधार पर किया जाता है। न्यादर्शों का आकार कम से कम 40 शिक्षार्थियों का होना चाहिये। सबसे पहले पूर्व-पूर्व परीक्षा के आधार पर न्यादर्शों का चयन किया जाता है जिससे पूर्व निष्पादन का मापन किया जाता है। इसके बाद अनुदेशन सामग्री पढ़ने के लिए दी जाती है। अनुदेशन के अन्त म मानदण्ड परीक्षा को अन्तिम परीक्षा के रूप में स्वीकार किया जाता है।

(7) अनुसूची तेयार करना (Manual of Program)

इस सोपान के अन्तर्गत अनुदेशन को सूची तैयार की जाती है।

सूची के अन्तर्गत अनुदेशन से सम्बन्धित सभी आवश्यक सूचनाओं का आलेख किया जाता है।

अनुसूची में निम्नलिखित सूचना की जाती है-
(1) अनुदेशन के संबंध में ऐतिहासिक रूपरेखा।
(2) अवधारणाओं का विशिष्टीकरण।
(3) मुख्य पृष्ठ तथा त्रुटि पृष्ठ चाट।
(4) मानदण्ड परीक्षा तथा उसकी कुंजी।
(5) अनुदशन के पदों का विवरण।
(6) मूल्यांकन मानदण्ड गुणको का आलेख।

यदि शाखीय अनुदेशन का निर्माण उपचारात्मक अनुदेशन के लिए किया गया है तब अनुसूची में निदानात्मक विवेचन भी दिया जाता है।

हिन्दी शिक्षण-विधियाँ : शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन की विशेषताएं (Characteristics of Branching Program)

(1) आवश्यकता के अनुसार अध्ययन

प्रत्येक शिक्षार्थी के लिए अपनी आवश्यकताओं के अनुसार अध्ययन का अवसर दिया जाता है।

प्रत्येक शिक्षार्थी अपने अपने अध्ययन का मार्ग निर्धारित करता है।

(2) अनुक्रियाओं को स्वतंत्रता

शिक्षार्थियों को अनुक्रियाओं के लिए स्वतंत्रता दी जाती है।

बहुविकल्प रूप के विकल्पों में से शिक्षार्थी किसी का भी चयन कर सकता है।

(3) उपचारात्मक अनुदेशन

शिक्षार्थियों को गलत अनुक्रियाओं के आधार पर उनकी व्यक्तिगत कठिनाइयों को जानकारी होती है।

उनको कमजोरियों के लिए उपचारात्मक अनुदेशन की भी व्यवस्था को जाती है।

(4) अनुवर्ग शिक्षण प्रणाली

शाखीय अनुदेशन एक अनुवर्ग शिक्षण प्रणाली की भांति कार्य करता है।

शिक्षार्थियों की कठिनाइयों तथा आवश्यकताओं को अधिक महत्त्व दिया जाता है।

(5) सरल निर्माण

शाखीय अनुदेशन का निर्माण कार्य अपेक्षाकृत अधिक सरल होता है।

(6) मानव अधिगम के प्रयुक्त : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

इसका विकास मानव प्रशिक्षण के शोध कार्यों से हुआ है।

इसलिए यह मानव अधिगम के लिए भली प्रकार प्रयुक्त किया जा सकता है।

(7) उच्च शिक्षा के उद्देश्य

इसका प्रयोग क्या शिक्षा के उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए किया जाता है।

(8) शिक्षण, अनुदेशन, उपचारात्मक अनुदेशन

इस का प्रयोग शिक्षण, अनुदेशन तथा उपचारात्मक अनुदेशन के लिए प्रभावशाली ढंग से किया जाता है।

(9) मनोवैज्ञानिक तथा सामाजिक प्रेरणा

इसमें मनोवैज्ञानिक तथा सामाजिक दोनो प्रकार की ‘अभिप्रेरणा की व्यवस्था की जाती है।

(10) प्रत्ययात्मक (Conceptual) तथा विवरणात्मक (Descriptive)

इसका प्रयोग प्रत्ययात्मक तथा विवरणात्मक दोनों प्रकार की पाठ्यवस्तु के अनुदेशन के लिए किया जाता है।

(11) समायोजन प्रविधि

इसे समायोजन प्रविधि (Adjective Device) के रूप में भी प्रयुक्त किया जाता है जिससे व्यक्तिगत भिन्नताओं के अनुसार शिक्षाधीयों को अध्ययन का अवसर मिलता है।

(12) शिक्षण एवं कला संबंध

इस व्यवस्था का सम्बन्ध शिक्षण की कला से है जबकि स्किनर की व्यवस्था का सम्बन्ध ‘अधिगम के विज्ञान’ से है।

हिन्दी शिक्षण-विधियाँ : शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन की सीमाएं (Limitation)

नार्मन ए, क्राउड ने रेखीय अनुदेशन की सीमाओं को ध्यान में रखकर अपनी व्यवस्था का विकास किया परन्तु यह भी अपने में पूर्ण नहीं है। इसकी निम्नलिखित सीमाएं हैं-

(1) कम रुचि और ज्यादा कठिनाइयां : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

शिक्षार्थिया की अध्ययन के समय पृष्ठों के क्रम का अनुसरण नहीं करना होता।

उन्हें कभी आगे कभी पीछे के पृष्ठों को उलटकर अध्ययन करना होता है।

इसलिए शिक्षार्थी कम रुचि लेते हैं तथा अध्यापन में कठिनाई का अनुभव करते हैं।

(2) सुधार की सीमित सम्भावना

शिक्षार्थी जब गलत अनुक्रिया करता है, तब उसे उसी सूचना को दुहराना पड़ता है।

इसमे शिक्षार्थी की कमजोरी को सुधारने की सम्भावना कम हो जाती है।

(3) अनुमान से विकल्प का चयन : हिन्दी शिक्षण-विधियाँ शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन

शिक्षार्थियों को विकल्प वाले प्रश्नों में से अपनी अनुप्रिया के लिए विकल्पों में से एक का चयन करना होता है।

अतः शिक्षार्थी बिना समझ के अनुमान से भी एक विकल्प का चयन कर लेते है।

(4) गलत विकल्प – त्रुटिपृष्ठ

गलत विकल्प सदैव त्रुटि-पृष्ठ (Wrong Page) पर दिये जाते हैं।

अतः उन पृष्ठों के विकल्पों का शिक्षार्थी सही चयन नहीं करते हैं क्योंकि एक त्रुटि-पृष्ठ पर कई विकल्पों के लिए उपचार किये जाते है।

(5) संगणक का उपयोजन असंभव

शाखीय अनुदान को संगणक तथा शिक्षण मशीन पर नहीं दिया जा सकता है।

(6) व्यक्तिगत भिन्नता

व्यक्तिगत भिन्नता के अनुसार कितनी बार शाखाएँ दी जानी चाहिये?

इस प्रश्न का उत्तर देना कठिन है।

प्रश्न के विकल्पों की संख्या निश्चित करना एक गम्भीर समस्या है।

(7) उच्च शिक्षा के लिए उपयुक्त

इस व्यवस्था का प्रयोग छोटे बालका तथा प्राथमिक एवं माध्यमिक कक्षाओं के लिए नहीं किया जा सकता है।

यह उच्च शिक्षा के स्तर पर ही उपयुक्त है।

(8) अधिगम परिस्थितियों और प्रकियाओं पर ध्यान नहीं

इसमें अधिगम परिस्थितियों तथा अधिगम प्रक्रियाओं पर ध्यान नहीं दिया जाता है, जो प्रभावशाली शिक्षण व्यवस्था के लिए अधिक महत्त्वपूर्ण तत्व हैं।

स्रोत NCERT शिक्षा में सूचना एवं संचार तकनीकी

कंप्यूटर-आधारित संगणक सह-अनुदेशन हिन्दी-शिक्षण-विधियाँ
शाखीय अभिक्रमित-अनुदेशन हिन्दी शिक्षण-विधियाँ
रेखीय अभिक्रमित-अनुदेशन हिन्दी शिक्षण-विधियाँ
अभिक्रमित अनुदेशन हिन्दी शिक्षण-विधियाँ

Today: 2 Total Hits: 1087661
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
error: Content is protected !!