कंप्यूटर वायरस Computer virus

कंप्यूटर वायरस क्या है? What is computer virus?

कंप्यूटर वायरस Computer virus क्या है?, कंप्यूटर वायरस का इतिहास, दुनिया का पहला कंप्यूटर वायरस, कंप्यूटर वायरस फैलने के कारण, वायरस के लक्षण, कंम्प्यूटर पर पड़ने वाले प्रभाव, कंप्यूटर वायरस के प्रकार, कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय

आज के समय में शायद ही कोई ऐसा युवा होगा जो कम्प्यूटर या लैपटाॅप से अछूता हो? कम्प्यूटर या लैपटाॅप हार्डवेयर के अतिरिक्त यदि कोई समस्या आती है तो वह अधिकतर वायरस के कारण ही आती है।

VIRUS का पूरा नाम

सर्वप्रथम VIRUS का पूरा नाम जानते हैं- Vital Information Resources Under Siege है, जिसका हिन्दी रूपान्तरण ‘घेराबंदी के तहत महत्वपूर्ण सूचना संसाधन’ है।

वायरस एक प्रकार के कम्प्यूटर प्रोग्राम ही होते हैं जो कि कम्प्यूटर को अलग-अलग तरीकों से नुकसान पहुँचाने के लिए बनाये जाते हैं। ये किसी भी प्रकार से कम्प्यूटर प्रोग्राम में घुसकर उसे नुकसान पहुँचाकर कम्प्यूटर की कार्यविधि को प्रभावित करते हैं, वायरस कहलाते हैं। ये एक प्रकार के Electronic code होते हैं। वायरस स्वचलित प्रोग्राम (Auto Execute Program) होते हैं अर्थात् वायरस तुरंत या समय आने पर अपने को क्रियान्वित (Activate) कर लेते हैं।

कंप्यूटर वायरस Computer virus
कंप्यूटर वायरस Computer virus

वायरस का इतिहास एवं दुनिया का पहला वायरस

VIRUS शब्द का प्रयोग सबसे पहले कैलिफाॅर्निया विश्वविद्यालय में पढने वाले विद्यार्थी फ्रेडरिक बी. कोहेन ने अपने एक शोध पत्र में किया था, जिसमें बताया गया था कि एक ऐसा प्रोग्राम कैसे तैयार किया जाए जो कम्प्यूटर में घुसकर उसे नुकसान पहुँचाए तथा कम्प्यूटर पर आक्रमण करके उसकी कार्यप्रणाली को बुरी तरह प्रभावित करे। हालाँकि लोगों ने इस बात को सहजता से स्वीकार नहीं किया कि ऐसा कोई कम्प्यूटर प्रोग्राम हो सकता है। फ्रेडरिक बी. कोहेन ने एक छोटे कार्यक्रम को एक प्रयोग के रूप में लिखा, जो कंप्यूटरों को संक्रमित कर सकता था, खुद की प्रतियां बना सकता था और एक मशीन से दूसरी मशीन में फैल सकता था। यह एक बड़े, वैध कार्यक्रम के अंदर छिपा हुआ था, जिसे एक फ्लॉपी डिस्क पर कंप्यूटर में लोड किया गया था।

Search engine क्या है?

कम्प्यूटर वायरस की शुरूआत हुई तो गणितज्ञ जाॅन वाॅन न्यूमैन ने 1949 में एक सेल्फ रीप्लीकेटिंग प्रोग्राम बनाया, जिसे पहला वायरस माना जाता है। यह कम्प्यूटर में अपने आप बढता चला जाता था।

क्रीपर

1970 में इसी सेल्फ रीप्लीकेटिंग प्रोग्राम का उपयोग करके बाॅब थाॅमस ने सबसे पहला वायरस क्रीपर बनाया था जो अरपानेट (ARPANET) पर खोजा गया, जो 1970 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट से पहले आया था। यह टेनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा फैला और यह कंप्यूटर को नियंत्रित और संक्रमित करने के लिए किसी भी जुड़े मॉडम का उपयोग कर सकता था। यह संदेश प्रदर्शित कर सकता है कि ‘मैं क्रीपर हूँ, यदि पकड़ सकते हो तो मुझे पकडो’ (I Am The Creeper, Catch Me If You Can)

इस मैसेज को डिलीट करने के लिए रीपर प्रोग्राम बनाया गया। शुरू-शुरू में वायरस को खोजना इतना आसान नहीं था, क्योंकि लोगों को 1980 के दशक तक तो इसके बारे में पता ही नहीं था।

1982 में नौवीं कक्षा में पढ़ने वाले Richard Skrenta ने elk cloner वायरस अपने दोस्तों के साथ मजाक करने के लिए बनाया था। Richard Skrenta ने अपने Apple टू कंप्यूटर में कंप्यूटर पर कोड लिखा और गेम के फ्लॉपी डिस्क के जरिए वायरस को फैलाया जब कोई Richard Skrenta का दोस्त इस को 85 बार ओपन करता तो यह वायरस एक्टिवेट हो जाता था।

C Brain

आधुनिक वायरस में C Brain नाम का पहला वायरस माना जाता है, जो पूरी दुनिया में व्यापक स्तर पर फैला था। इस Virus को एक समाचार का रूप मिला था, क्योंकि इस Virus में वायरस बनाने वाले का नाम, पता तथा इसका विशेषाधिकार वर्ष (1986) मौजूद था। इस वायरस को पाकिस्तान के लाहौर में बनाया गया था। इस वायरस को दो भाइयों ने मिलकर IBM के लि बनाया था। जिनके नाम अमजद फारूक अल्वी और बासित फारूक अल्वी थे।

बाद में लोगों से पता चला कि उन्होंने यह वायरस अपने मेडिकल सॉफ्टवेयर को पायरेसी से बचाने के लिए बनाया था। जब कोई भी अवैध तरीके से इस सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल करता था तो उनको एक चेतावनी दिखाई देती थी और वह मैसेज के साथ दिखाई देती थी। उस मैसेज में उसका फोन नंबर भी दिखाई देता था। फिर लोग जब भी इस Virus का शिकार होते थे तो उस स्क्रीन के ऊपर दिखाए गए फोन नंबर के ऊपर फोन करके बात करते थे और अपनी दिक्कत के बारे में बताते थे और इस समस्या का समाधान पाते थे।

फोन कॉल से बासित और अमजद को पता चल जाता कि इस सॉफ्टवेयर का उपयोग दुनिया में कहां पर हो रहा है यह वायरस कंप्यूटर के बूट सेक्टर प्रभावित करता कंप्यूटर को स्लो भी कर देता। यह वायरस कंप्यूटर के फ्लॉपी बूट सेक्टर को एक वायरस कॉपी से रिप्लेस कर देता था। Actual boot sector को किसी गलत जगह पर रख देता था। इस वायरस से प्रभावित डिस्क में लगभग 5 किलोबाइट्स बाद सेक्टर होता था। इस वायरस के कारण डिस्क का लेबल C Brain हो जाता था और कुछ अनचाहे मैसेज आने लगते थे। यह वायरस फ्लॉपी डिस्क को काफी धीमा कर देता था और DOS का लगभग सात किलोबाइट्स मेमोरी को हटा देता था।

शांति वायरस

1988 के प्रारम्भ में मैकिन्टोश शांति वायरस आया। यह वायरस एक पत्रिका मैकमैग (MacMag) के प्रकाशक रिचर्ड ब्रेनड्रा (Richard Brando) की ओर से था। इस वायरस को मैकिन्टोश आपरेटिंग सिस्टम को बाधित करने के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया था। 2 मार्च 1988 को एक सन्देश स्क्रीन पर आया, वह संदेश था- ‘‘रिचर्ड ब्रेनडा मैकमैग के प्रकाशक तथा इसके कर्मचारी दुनिया के लिए समस्त मैकिन्टोश प्रयोक्ताओ को विश्व शांति का सन्देश देना चाहते है।’’

 

वायरस फैलने के कारण या वायरस कैसे फैलता है?

वर्तमान में इंटरनेट के बढते प्रभाव के कारण जहाँ पर हमें अकल्पनीय लाभ हो रहें हैं वहीं इंटरनेट के कारण बहुत से वायरस भी पनप रहें हैं। अनजान ई-मेल लिंक से अटैच फाइलों के कारण वायरस फैलते जाते हैं। virus कुछ websites के link, advertisement, image placement, video के साथ attached रहते है। वेबसाइट की इन सामग्री पर click करने से malicious code आपके computer या मोबाइल पर automatically download हो जाता है, इसके अलावा यह आपको किसी malicious website पर भी भेज सकता है। वायरस फैलने के कई कारण हैं, जैसे-

  • Internet चलाते समय असावधानी के कारण।
  • सिस्टम में Antivirus का न होना या एंटीवायरस का आउटडेटेड हो जाना।
  • अप्रमाणित लिंक या पोर्न वेबसाइट चलाने से।
  • फ्री में लाभ देने वाले लिंक पर क्लिक करने से।
  • कोई भी पैन ड्राइव को बिना स्कैन किये उपयोग करने से।
  • अनजान E-mail Open करने से, खासतौर पर स्पैम।
  • फ्री में गेम या मूवी Download करने या देखने वाले लिंक पर क्लिक करने से।
  • कोई भी ऐसी फाइल डाउनलोड करने से जिसमें वायरस मौजूद हो, हालांकि इसका पता नहीं चलता है।
  • मोबाइल या अन्य स्टोरेज डिवाइस को बिना स्कैन किये System में Open करने से।

 

वायरस के लक्षण अथवा कम्प्यूटर पर पड़ने वाले प्रभाव : कंप्यूटर वायरस Computer virus

वायरस के कारण Computer System बुरी तरह प्रभावित होता है। इससे बहुत बड़ा नुकसान हो जाता है। कम्प्यूटर सिस्टम को हानि पहुंचाने वाला वायरस Malware होता है, जो सिस्टम में आ जाये तो इसे Delete करना फाफी मुश्किल हो जाता है। नीचे बताई गई बातों में से यदि एक-दो या अधिक बातें आपको लगती है कि सिस्टम में हो गई हैं तो आपको समझ जाना चाहिए कि ये सब वायरस के कारण हो रहा है। वायरस किस प्रकार सिस्टम को प्रभावित करता है? ये लक्षण निम्नलिखित है-

  • कम्प्यूटर को Hang कर देना।
  • कम्प्यूटर की Speed कम कर देना।
  • सिस्टम का Crash हो जाना।
  • कम्प्यूटर की सूचनाएं Delete कर देना।
  • सिस्टम को Shutdown करते समय समस्या आना।
  • हार्ड डिस्क या अन्य अटैच होने वाले Storage Device को Format कर देना।
  • Booting System अर्थात् कम्प्यूटर के स्टार्ट होने की कार्यप्रणाली को प्रभावित कर देना।
  • अनचाहे विज्ञापन (Advertisement) दिखाना।
  • अनचाहे फाइल अथवा फोल्डर बनाना।
  • फाइलों को क्रियान्वित (Execute) न होने देना।
  • फाइलों के आकार में परिवर्तन कर देना।
  • स्क्रीन पर बेकार की सूचनाएं देना।
  • फाइलों के Data को नष्ट करना या बदल देना।
  • फाइल के Path में परिवर्तन कर देना।
  • की-बोर्ड के Keys का कार्य बदल देना।

 

वायरस के प्रकार (Types of Virus) : कंप्यूटर वायरस Computer virus

  1. Web scripting virus-

    इस प्रकार के वायरस सबसे प्रचलित है। यह virus कुछ websites के link, advertisement, image placement, video के साथ attached रहते है। वेबसाइट की इन सामग्री पर click करने से malicious code आपके computer या मोबाइल पर automatically download हो जाता है। इसके अलावा यह आपको किसी malicious website पर भी भेज सकता है। इस प्रकार के computer virus उन वेबसाइटों पर पाये जाते है, जिनका उपयोग social networking उद्देश्यों के लिए किया जा रहा हो।

  2. Network virus-

    नेटवर्क वायरस internet और स्थानीय नेटवर्क क्षेत्र (LAN) के माध्यम से फैलता है. इस प्रकार के वायरस network की performance को कम करने की क्षमता रखते है।

  3. Encrypted virus-

    encrypted malicious code का उपयोग करने के कारण इसे Detect करना एंटीवायरस के लिए भी कठिन होता है।

  4. Browser Hijacker Virus–

    वर्तमान समय में यह बहुत तेज गति से फैलने वाला वायरस है। यह गेम, वेबसाइट या फाइल आदि के माध्यम से सिस्टम में प्रवेश करके फाइलों की गति को अपने नियंत्रण में कर लेता है और उनकी गति कम कर देता है। फलस्वरूप फाइलें धीरे-धीरे नष्ट भी हो जाती है।

  5. Maltipartite virus-

    यह computer virus सबसे तेजी से फैलने वाला वायरस माना जाता है। अधिकांश virus या तो boot sector, system या program files को infect करते है, परन्तु यह वायरस एक ही समय मे बूट सेक्टर और प्रोग्राम फाइलों दोनों को प्रभावित कर सकता है।

  6. Resident Virus–

    यह वायरस कम्प्यूटर को अपडेट नहीं होने देता तथा सिस्टम को शटडाउन करने में समस्या पैदा करता है। काॅपी-पेस्ट करने में भी समस्या उत्पन्न करता है।

  7. Overwrite Virus-

    यह वायरस असली डेटा को नष्ट करके एक इन्फेक्टेड फाइल बना देता है।

  8. Direct Action Virus–

    यह वायरस कम्प्यूटर में उपस्थित सभी फाइल एवं फोल्डर को डिलीट कर देता है।

  9. File Infectors–

    यह वायरस रनिंग फाइल को प्रभावित करता है और उसे नष्ट कर देता है। इसे बहुत ही खतरनाक वायरस माना जाता है।

  10. Boot Virus–

    यह वायरस हार्ड डिस्क तथा फ्लाॅपी को क्षतिग्रस्त करता है एवं इनको चलने नहीं देता है।

  11. Directory Virus–

    यह वायरस फाइलों के की लोकेशन या पाथ को उल्टफेर कर देता है जिससे कोई भी फाइल या फोल्डर किसी भी फाइल या फोल्डर में चले जाते हैं।

वायरस से कैसे बचें?

आपने जाना कि वायरस क्या है और इसके लक्षण एवं कारण क्या हैं? इससे यह स्पष्ट हो गया कि वायरस हानि पहुंचाते ही हैं तो जो यूजर है उसे यह भी पता होना चाहिए कि वायरस से कैसे बचें?
निम्नलिखित तरीकों से हम वायरस से बच सकते हैं-

  1. सिस्टम में Antivirus रखना चाहिए। उसे भी प्रोग्राम के निर्देशानुसार Update करना चाहिए।
  2. Operating System को समयानुसार अपडेट करना चाहिए।
  3. पैन ड्राईव या अन्य स्टोरेज डिवाइस से डेटा लेने से पहले उन्हें स्कैन अवश्य कर लें।
  4. संदिग्ध (Suspicious) वेबसाइट पर कभी न जाएं।
  5. Malware स्कैनर का हमेशा प्रयोग करना चाहिए।
  6. विण्डोज का Firewall हमेशा On रखें।
  7. मैलीसियस प्रोग्राम को जानकारी रखनी चाहिए।
  8. Free या Offer देने वाली वेबसाइटों से कभी भी कुछ भी न डाउनलोड करें।
  9. महत्त्वपूर्ण डेटा का Backup लेते रहें ताकि डेटा सुरक्षित रहे।
  10. अनचाहे ई-मेल के अटैचमेंट पर कभी क्लिक न करें।
  11. किसी फाइल में वायरस हो तो ऐसी फाइल को शेयर करने से पहले स्कैन अवश्य करें।

 

कुछ प्रकार के एंटीवायरस : कंप्यूटर वायरस Computer virus

  • Norton
  • Avg antivirus
  • Quick Heal
  • Avast
  • Kaspersky internet security
  • BitDefender
  • McAfee
  • Guardian total security
  • K7 antivirus
  • Avira

कंप्यूटर वायरस Computer virus क्या है?, कंप्यूटर वायरस का इतिहास, दुनिया का पहला कंप्यूटर वायरस, कंप्यूटर वायरस फैलने के कारण, वायरस के लक्षण, कंम्प्यूटर पर पड़ने वाले प्रभाव, कंप्यूटर वायरस के प्रकार, कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय

कम्प्यूटर क्षेत्र में विश्व में प्रथम (First in computer field in the World)

Google का नाम Google ही क्यों पड़ा?

कंप्यूटर वायरस क्या है? What is computer virus?

सुंदर पिचई का जीनव परिचय (Biography of Sundar Pichai)

सर्च इंजिन क्या है?

पहला सर्च इंजिन कौनसा था?

अतः हमें आशा है कि आपको यह जानकारी बहुत अच्छी लगी होगी। इस प्रकार जी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप https://thehindipage.com पर Visit करते रहें।

Today: 7 Total Hits: 1081374
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
error: Content is protected !!