त, त्र, थ, द, ध, न

शब्द समूह के लिए एक शब्द (स्थानापन्न शब्द)

कम से कम शब्दों में अधिकाधिक अर्थ को प्रकट करने के लिए ‘वाक्यांश या शब्द-समूह के लिए एक शब्द’ का विस्तृत ज्ञान होना आवश्यक है। ऐसे शब्दों के प्रयोग से वाक्य-रचना में संक्षिप्तता, सुंदरता तथा गंभीरता तो आती ही है, इसके अलावा पढ़ते, सुनते या लिखने में समय की भी बचत होती है। वाक्यांश या शब्द-समूह के लिए एक शब्द जो एक शब्द काम में लेते हैं उसे स्थानापन्न शब्द कहते हैं।

A word for a word set (substitute word in Hindi/One Word in Hindi/Phrases)

(Vakyansh ya shabd samooh ke liye ek shabd – Sthanapann Shabd)

वाक्यांश या शब्द-समूह के लिए एक शब्द – स्थानापन्न

Sthanapann Shabad
Sthanapann Shabad

तारों के झुण्ड की पंक्ति- तारावलि

तुच्छ समझकर किसी का निरादर करना- तिरस्कार

जिसका तिरस्कार कर दिया गया हो- तिरस्कृत

तमोगुण वाला- तामसिक

तांबे के रंग के समान लाल रंग- ताम्ररक्त या ताम्रवर्णी

जो किसी भी गुट में न हो- तटस्थ या निर्गुट

जो किनारे से सटा हुआ हो- तटवर्ती

हल्की नींद- तन्द्रा

जो किसी कार्य या चिन्तन में डूबा हो- तल्लीन

ऋषियों के तप करने की भूमि- तपोभूमि

उसी समय का- तत्कालीन

वह राजकीय धन जो किसानों की सहायता हेतु दिया जाता है- तकाबी

जिसमें बाण रखे जाते है- तरकश अथवा तूणीर

जो चोरी-छिपे माल लाता ले जाता हो- तस्कर

किसी को पद छोड़ने के लिए लिखा गया पत्र- त्यागपत्र

तर्क करने वाला व्यक्ति- तार्किक

दैहिक, दैविक और भौतिक सुख- तापत्रय

तैर कर पार जाने की इच्छा- तितीर्षा

ज्ञान में प्रवेश का मार्गदर्शक- तीर्थंकर

बर्फ से ढकी हुई- तुषारावृता

त्याग देने योग्य- त्याज्य


त्र

गंगा, जमुना और सरस्वती नदी का संगम- त्रिवेणी

जिसके तीन आँखे हैं- त्रिनेत्र

सत्व, रज और तम गुणों का समूह- त्रिगुण

वह स्थान जो दोनों भृकुटिओं के बीच होता है- त्रिकुटी

तीन कालों की बात जानने वाला- त्रिकालज्ञ

भूत, वर्तमान एवं भविष्य को देखने वाला- त्रिकालदर्शी

वह व्यक्ति जो छुटकारा दिलाता है/रक्षा करता है- त्राता

दुखान्त नाटक- त्रासदी

तीन महीने में एक बार- त्रैमासिक


जो धरती पर निवास करता हो- थलचर

अनावश्यक मांसल और मोटा शरीर- थुल-थुल या थुलथुला

बड़े व्यापारियों द्वारा छोटे व्यापारियों के साथ किया जाने वाला व्यापार- थोक व्यापार


जिसने दीक्षा ली हो- दीक्षित

दीक्षा (शिक्षा) की समाप्ति पर दिया जाने वाला उपदेश- दीक्षांत समारोह

पति और पत्नी का जोड़ा- दम्पत्ति

दस वर्षों की समयावधि- दशक

गोद लिया हुआ पुत्र- दत्तक

संकुचित विचार रखने वाला- दकियानूस

धन जो विवाह के समय पुत्री के पिता से प्राप्त हो- दहेज

जंगल में फैलने वाली आग- दावानल या दावाग्नि

दिन भर का कार्यक्रम- दिनचर्या

दिखने मात्र को अच्छा लगने वाल- दिखावटी

जो सपना दिन (दिवा) में देखा जाता है- दिवास्वप्न

दो बार जन्म लेने वाला (ब्राह्मण, पक्षी, दाँत, नाखून)- द्विज

अनुचित बात के लिए आग्रह- दुराग्रह

बुरे भाव से की गई संधि- दुरभिसंधि

वह कार्य जिसको करना कठिन हो- दुष्कर

दो विभिन्न भाषाएँ जानने वाले व्यक्तियों को एक-दूसरे की बात समझाने वाला- दुभाषिया

जो शीघ्रता से चलता हो- द्रुतगामी

जिसे कठिनाई से जाना जा सके- दुर्ज्ञेय

जिसको पकड़ने में कठिनाई हो- दुरभिग्रह अथवा दुर्गाह्य

पति के स्नेह से वंचित स्त्री- दुर्भगा

जिसे कठिनता से साधा या सिद्ध किया जा सके- दुस्साध्य

जो कठिनाई से समझ में आता है- दुर्बोध

वह मार्ग जो चलने में कठिनाई पैदा करता है- दुर्गम

जिसे कठिनाई से वहन या धारण किया जा सके- दुर्वह

दैव (भाग्य) या ज्योतिष शास्त्र को जानने वाला- दैवज्ञ

जिसे देवता भी पूजते हों- देवाराध्य

जिसमें खराब आदतें हों- दुर्व्यनी

जिसको मापना कठिन हो- दुष्परिमेय

जिसको जीतना बहुत कठिन हो- दुर्जेय

वह बच्चा जो अभी माँ के दूध पर निर्भर है- दुधमुँहा

बुरे भाग्य वाला- दुर्भाग्यशाली

जिसमें दया भावना हो- दयालु

जिसका आचरण बुरा हो- दुराचारी

दूध पर आधारित रहने वाला- दुग्धाहारी

जिसकी प्राप्ति कठिन हो- दुर्लभ

जिसका दमन करना कठिन हो- दुर्दमनीय

आगे की बात सोचने वाला व्यक्ति- दूरदर्शी

देश से द्रोह करने वाला- देशद्रोही

देह से सम्बन्धित- दैहिक

देव के द्वारा किया हुआ- दैविक

प्रतिदिन होने वाला- दैनिक

जिसे दण्ड दिया गया हो- दण्डित

जिसे दण्ड देना उचित हो- दण्डनीय

दस वर्षों की अवधि- दशाब्दी

जो दर्शनशास्त्र का विद्वान हो- दर्शनशास्त्री

जिसका चित्त किसी और में लगा हो- दत्तचित्त

जो मार्ग कठिन हो- दुर्गम

जो दान करता हो- दानी

वह आधार जिस पर दीपक रखा जाता है- दीयट (शमादान)

सूर्योदय से सूर्यास्त का समय- दिनमान

प्रत्येक कार्य में विलम्ब करने वाला- दीर्घसूत्री

नव विवाहिता स्त्री- दुल्हन

जिसका मुख दक्षिण की ओर हो- दक्षिणाभिमुख

जिसे प्रसन्न करना कठिन हो- दुराराध्य

जिसका अन्त कठिन हो- दुरन्त

पुत्री का पुत्र- दौहित्र

पुत्री की पुत्री- दौहित्री

दूर तक जाने वाला- दूरगामी

जो दिशा से भटक गया हो- दिशाहीन

दिशाओं का घेरा- दिङ्मण्डल


जो धर्म के काम करे- धर्मात्मा

जिसकी धर्म में निष्ठा हो- धर्मनिष्ठ

धूल से सना हुआ- धूसर

धन से सम्पन्न- धनी

धन की इच्छा रखने वाला- धनेच्छु

जो धनुष को धारण करता हो- धनुर्धर

सभी को धारण करने वाली (पृथ्वी)- धरणी

यात्रियों के लिए सार्वजनिक आवास-गृह- धर्मशाला

श्रेष्ठ गुणों से सम्पन्न शूरवीर नायक- धीरोदात्त

शूरवीर किंतु अभिमानी नायक- धीरोद्धत

शूरवीर किंतु क्रीड़ाप्रिय नायक- धीरललित

गरीबों के लिए दान के रूप में दिया जाने वाला अन्न-धन आदि- धर्मादा

किसी के पास रखी हुई दूसरे की वस्तु- धरोहर अथवा थाती

मछली पकड़कर आजीविका चलाने वाला- धीवर

जो धीरज रखता हो- धीर

धुरी को धारण करने वाला अर्थात् आधारभूत कार्यों में प्रवीण- धुरंधर

अपने स्थान पर अचल रहने वाला- ध्रुव

ध्यान करने योग्य अथवा लक्ष्य- ध्येय

ध्यान करने वाला- ध्याता या ध्यानी

जो बिल्कुल नष्ट हो गया हो- ध्वस्त

इमारत के नष्ट होने के बाद बचा भाग- ध्वंसावशेष


ताण्डव नृत्य की मुद्रा में शिव- नटराज

जिसका जन्म अभी-अभी हुआ हो- नवजात

नाक से अपने-आप निकलने वाला खून- नकसीर

गाय को दुहते समय बछड़े का गला बाँधने की रस्सी जो गाय के पैरों में बाँधी जाती है- नवि

जो नया-नया आया है- नवागंतुक

जिसका उदय हाल ही में हुआ है- नवोदित

जो आकाश में विचरण करता है- नभचर

सम्मान में दी जाने वाली भेंट- नजराना

जिस स्त्री का विवाह अभी हुआ हो- नवोढ़ा

ईश्वर में विश्वास न रखने वाला- नास्तिक

पुराना घाव जो रिसता रहता हो- नासूर

जो नष्ट होने वाला हो- नाशवान या नश्वर

जिसका सर झुका हुआ हो- नतमस्तक

नरक के योग्य- नारकीय

वह स्थान या दुकान जहाँ हजामत बनाई जाती है- नापितशाला

जो दया रहित हो- निष्ठुर या निर्दयी

जिसमें कोई सार न हो- निस्सार

जिसकी कोई अवधि निश्चित न हो- निरवधि

जिसको किसी में भी आसक्ति न हो- निस्संग (असंग)

जिसका कोई उद्देश्य न हो- निरुद्देश्य

सब प्रकार की चिंताओं रहित- निश्चिंत

जो पाप से रहित हो- निष्पाप

जो प्रतिदिन नहाता हो- नित्यस्नायी

जिसे किसी से लगाव न हो- निर्लिप्त

किसी से भी न डरने वाला- निडर या निर्भीक

जिसको भय न हो- निर्भय

जो कपट से रहित है- निष्कपट

जो मोह न रखता हो- निर्मोही

जिसमें संदेह न हो- निस्संदेह

जिसका कोई आधार न हो- निराधार

आधी रात का समय- निशीथ

जिसका कोई उपाय न हो- निरुपाय

जो बिना जड़ के हो- निर्मूल

लोहे का बना आधार जिस पर रखकर लोहा पीटा जाता है- निहाई

जो पढ़ना-लिखना न जानता हो- निरक्षर

जिसका कोई अर्थ न हो- निरर्थक

जिसे कोई इच्छा न हो- निस्पृह

रात में विचरण करने वाला- निशाचर

जिसका आकार न हो- निराकार

केवल शाक, फल एवं फूल खाने वाला या जो मांस न खाता हो- निरामिष

जिससे किसी प्रकार की हानि न हो- निरापद

जिसके अवयव न हो- निरवयव

बिना भोजन (आहार) के- निराहार

जो यह मानता है कि संसार में कुछ भी अच्छा होने की आशा नहीं है- निराशावादी

जो उत्तर न दे सके- निरुत्तर

जिसके कोई दाग/कलंक न हो- निष्कलंक

जिसमें कोई कंटक/अड़चन न हो- निष्कंटक

जिसका अपना कोई शुल्क न हो- निःशुल्क

जिसके संतान न हो- निःसंतान

जिसका अपना कोई स्वार्थ न हो- निस्स्वार्थ

व्यापारिक वस्तुओं को किसी दूसरे देश में भेजने का कार्य- निर्यात

जिसको देश से निकाल दिया गया हो- निर्वासित

बिना किसी बाधा के- निर्बाध

जो ममत्व से रहित हो- निर्मम

जिसकी किसी से उपमा/तुलना न दी जा सके- निरुपम

जो निर्णय करने वाला हो- निर्णायक

जिसे किसी चीज की लालसा न हो- निष्काम

जिसमें किसी बात का विवाद न हो- निर्विवाद

जो निन्दा करने योग्य हो- निन्दनीय

जिसमें किसी प्रकार का विकार उत्पन्न न हो- निर्विकार

जो लज्जा से रहित हो- निर्लज्ज

जो नीति जानता हो- नीतिज्ञ

रंगमंच पर पर्दे के पीछे का स्थान- नेपथ्य

आजीवन ब्रह्मचर्य का व्रत करने वाला- नैष्ठिक

जो नीति के अनुकूल हो- नैतिक

जो न्यायशास्त्र की बात जानता हो- नैयायिक

निम्नलिखित अक्षरों से बनने वाले स्थानापन्न शब्दों को जानने के लिए इन्हें स्पर्श कीजिए-

अ से औ तक

क, क्ष, ख, ग, घ

च, छ, ज, ज्ञ, झ

ट, ठ, ड, ढ

त, त्र, थ, द, ध, न

प, फ, ब, भ, म

य, र, ल, व

श, श्र, ष, स, ह

अतः हमें आशा है कि आपको यह जानकारी बहुत अच्छी लगी होगी। इस प्रकार जी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप https://thehindipage.com पर Visit करते रहें।

 

Today: 1 Total Hits: 1081981
Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial
error: Content is protected !!